परिवार की सुरक्षा और न्याय लेने के लिए पीड़िता ने करनाल सचिवालय में लगाई गुहार
Breaking News Karnal खास खबर देश राज्य लोकल खबरें हरियाणा

परिवार की सुरक्षा और न्याय लेने के लिए पीड़िता ने करनाल सचिवालय में लगाई गुहार

परिवार की सुरक्षा और न्याय लेने के लिए पीड़िता ने करनाल सचिवालय में लगाई गुहार
परिवार की सुरक्षा और न्याय लेने के लिए पीड़िता ने करनाल सचिवालय में लगाई गुहार

करनाल,समाचार एक्सप्रेस

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ के तहत गगसीना गांव की एक लड़की अपनी मां सतवंती ओर अपने दो बच्चों के साथ अपने परिवार की सुरक्षा और न्याय लेने के लिए अचानक करनाल सचिवालय के सामने बैठ गई,रोते बिलखते हुए मन्जू ने कहा की मेरे दो जवान भाई और पिता जी इस दूनिया से चले जाने के बाद,मैं और मेरी मां से मेरे चाचा ताऊ के बच्चे मारपिट करते हैं,मारपिट का कारण मेरे नाम तीन एकड़ जमीन हैं,जो वो लोग जबरदस्ती मुझसे लेना चाहते हैं, पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है, मेरी मां जो गांव में अकेली रहती है, रोजाना,मार पिटाई का शिकार होने लगी, खेत के पानी के लिए मैंने 2018 में बिजली कनेक्शन लेने के लिए बिजली बोर्ड में गुहार लगाई ,पर चाचा ताऊ ने मेरे खेत में बिजली कनेक्शन न देने के लिए कोर्ट में गुहार लगा दी, लम्बी लड़ाई लड़ने के बाद अभी तिसरे महिने की आठ तारीख को अक्षय चौधरी की कोर्ट ने मेरे हक में फैसला दिया और बिजली कनेक्शन के लिए तुरंत आदेश दिया, कोर्ट के अनुसार बिजली बोर्ड द्वारा बिजली के खम्भे हमारी जमीन में लगाने के लिए बिजली बोर्ड द्वारा भेजे गए लोग खुदाई करने लगे,पर जमीन हथियाने और परेशान करने के लिए चाचा ताऊ ने पिछली महीने की 6 तारिख को बिजली के खंभे रात को चोरी करवा दिए, जिस समय वे लोग बिजली खंभे चोरी कर रहे थे,मेरी मां सतवंती ने चोरी करते देख लिया जिसके बाद मेरी मां को खूब मारा पीटा और बंधक बना लिया। हमने थाने में फोन किया और पुलिस की जिप्सी खेत में गई और मेरी मां को वहां से बंधक जो बना रखी थी उसको छुड़वाया।पीड़िता ने कहा खंभे चोरी का रिपोर्ट मुनक थाने में उन दुराचारी लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज करा रखी है, मेरी ज़मीन बिना फ़सल से बंजर हो गई है, अपनी जान की सुरक्षा का डर बना रहता हैं.इन सब मामले को समाज और प्रशासन तक पहुंचाने के लिए आज मैं अपने दोनों छोटे बच्चे, पति अपनी मां सतवंती के साथ सचिवालय के सामने जमीन पर बैठकर अपने परिवार की जिन्दगी के लिए आवाज लगा रही हूँ, मैं आप सब पत्रकार भाईयों के माध्यम से जिला पुलिस, प्रशासन को जानकारी से अवगत करवाना चाहती हू,कानुन से न्याय के तहत सुरक्षा का भीख मांग रही, जैसें ही दोपहर को इस पीड़ित परिवार के बारे में प्रशासन को पता चला तो तुरंत प्रशासन के अधिकारी उनके पास गए। समझा-बुझाकर उनका धरना समाप्त करवाया और पुलिस के सामने पेश किया