अचूकवाणी अंतर्राष्ट्रीय खास खबर टेक्नोलॉजी देश राज्य रोजगार स्वास्थ्य

मां चिंतपूर्णी दरबार में सादगी से मनाई दुर्गा अष्टमी

उत्तर भारत के प्रसिद्ध शक्तिपीठ मां चिंतपूर्णी दरबार में चैत्र नवरात्र की अष्टमी बड़ी सादगी से मनाई गई। यहां पर दुर्गा अष्टमी का दिन एक विशेष दिन के रूप में मनाया जाता है। इस दिन मां चिंतपूर्णी की पावन पिंडी का श्रृंगार 3 बार होता है। आम दिनों में माता का श्रृंगार सुबह और शाम दो समय ही होता है। परंतु चैत्र नवरात्र और अश्विन नवरात्रि में ही ये विशेष पूजा की जाती है। बताया जाता है कि आज के दिन पूजा करने वाले पुजारी द्वारा पहले कन्या पूजन करने के उपरांत मां के शस्त्र तलवार के साथ नारियल की बलि भी दी जाती है। उसके बाद ही मां की आरती की जाती है। वहीं, पुजारी संदीप कालिया ने बताया कि पूरे नवरात्रि के दौरान प्रशासन द्वारा बताए गए दिशा निर्देशों का पालन पुजारियों द्वारा किया गया और बहुत ही सादगी से पूरे नवरात्रि पर्व को मनाया गया। वहीं, बारीदार सभा के प्रधान रविंदर छिंदा ने कहा की पूरे विश्व की शांति और इस कोरोना महामारी के नाश के लिए रोजाना पुजारियों द्वारा हवन किया गया। उन्होंने कहा कि चिंतपूर्णी मां लोगो की चिंता हरती है निश्चित रूप से मां ही इस महामारी का नाश करेगी।